व्यक्‍तियों के समूह से समाज का निर्माण होता है, इसलिए समाज व्यक्‍ति से बड़ा होता है। एक व्यक्‍ति के चिंतन की तुलना में समाज अथवा संगठन का चिंतन महत्त्व

- आचार्य श्री भिक्षु

रचनाएं

साँसों का इकतारा

साध्वीप्रमुखा कनकप्रभा

04 Oct - 10 Oct 2021

साँसों का इकतारा

स्वाध्याय

संबोधि

आचार्य महाप्रज्ञ

04 Oct - 10 Oct 2021

संबोधि

स्वाध्याय

उपासना

आचार्य कालक (द्वितीय)

04 Oct - 10 Oct 2021

उपासना
PDF जैन पंचांग